एमएलए का फुल फॉर्म क्या है?

2955

तो बहुत से ऐसे लोग भी हमारी यह पोस्ट पढ़ रहे होंगे. जिनको यह पता होगा कि एमएलए जिसे हिंदी में विधायक कहते हैं. उस एमएलए का फुल फॉर्म क्या होता है. और जाहिर सी बात है. आप में से अधिकतर लोग ऐसे भी होंगे जो इस पोस्ट को इसलिए पढ़ रहे होंगे क्योंकि उन्हें नहीं पता होगा कि एमएलए का फुल फॉर्म क्या होता है. हम आज आपको briefingpedia.com के माध्यम से आपको बताएंगे कि एमएलए का फुल फॉर्म क्या होता है और इससे जुड़ी बहुत सी जानकारी आज आपको मिलेगी.

एमएलए का फुल फॉर्म MLA Full Form

अनुक्रम

एमएलए (विधायक) का हिंदी नाम-

M.L.A का हिंदी में नाम होता है-  मेंबर ऑफ लेजिसलेटिव असेंबली (Member of the Legislative Assembly) जिसे हम हिंदी में विधायक भी कहते हैं. 

M– Member of

L– Legislative

A– Assembly

विधायक को जनता के द्वारा चुना जाता है. वोट देकर जिसे जनता अधिक वोट देकर विजई बनाती है. वह ही उस क्षेत्र का एमएलए होता है. 

(विधायक विधानसभा का सदस्य या विधानमंडल का सदस्य है व वह प्रतिनिधि है जिसे किसी निर्वाचन क्षेत्र के मतदाताओं द्वारा एक उप-राष्ट्रीय अधिकार क्षेत्र के विधानमंडल या विधानसभा के लिए चुना जाता है)

Also Read : ISRO में वैज्ञानिक कैसे बने ?

एमएलए कौन होता है- 

अभी आपने जाना की एमएलए की फुल फॉर्म क्या होती है. लेकिन असल में एमएलए कौन होता है. यह शायद अब आपको पता चल जाएगा. “एमएलए विधानसभा के सदस्य, अर्थात विधायक को कहते हैं” और “एमएलए को विधानसभा का सदस्य या फिर हम कहें विधानमंडल का सदस्य भी कहा जाता है”, और आपको मैं बता दूं एक्स्ट्रा नॉलेज के लिए की मराठी में विधायक को “आमदार” भी कहते हैं और जैसे ही जनता अपने क्षेत्र के एमएलए को चुनती है. वैसे ही एमएलए भी वोट डालते हैं और एमएलए उस राज्य के मुख्यमंत्री को चुनते हैं और 5 साल तक सरकार चलाते हैं उस राज्य की.

एमएलए को चुनने का पूरा प्रोसेस-

एमएलए आमतौर पर निर्वाचन क्षेत्र के मतदाताओं से चुने जाते हैं और मतदाता ही तय करते हैं. कि वह किसे वोट देकर अपने क्षेत्र का एमएलए बनाने जा रहे हैं. अब जानते हैं कैसे चुना जाता है एमएलए.

सबसे पहले वर्तमान विधानसभा के कार्यकाल के जब 5 साल बाद समाप्ति हो जाती है. तो उसके बाद आमतौर पर यह चुनाव किए जाते हैं.

इस चुनाव में उम्मीदवार की उम्र 25 वर्ष, व वोटर जो वोट देने वाले हैं. उनकी उम्र 18 वर्ष से अधिक होनी चाहिए तभी वह वोट देने के हकदार होते हैं.

इस चुनाव में कोई भी आम व्यक्ति एमएलए के पद पर खड़ा नहीं हो सकता. उसके लिए उस व्यक्ति को जो इस पद पर लड़ने वाला है. वह किसी बड़ी पार्टी जैसे बीजेपी, कांग्रेस, बहुजन समाजवादी पार्टी, अन्य किसी पार्टी से उसको टिकट मिलना जरूरी है या फिर उसे अपनी खुद की पार्टी बनानी होगी तो वह इस चुनाव में उम्मीदवार बन सकता है.

इतना होने के बाद अब उम्मीदवार को अपना प्रचार करना या रेलिया निकालना जरूरी है. जिससे लोग उसे जाने व उसको वोट देने के लिए तैयार हों. इसमें सबसे जरूरी आपको जनता का दिल जीतना बहुत जरूरी है.

आखिर में इनके मतदान होते हैं और यह मतदान पूरी तरह से गुप्त होते हैं. जिससे क्षेत्र के एमएलए को जनता चुनती है.

Also Read : Income Tax क्या है? नया इनकम टैक्स स्लैब 2020-21

एमएलए की क्या भूमिका होती है-

एमएलए की प्रमुख भूमिका कुछ इस प्रकार है.

विधायक की प्रमुख भूमिका में मौजूद सबसे प्रमुख भूमिका यह है. कि कानूनों की भावनाओं को समझना, नए कानूनो की योजना बनाना, चर्चा करना, अध्ययन करना और फिर नए कानूनों को लागू करने का समर्थन करना या फिर उसका विरोध करना अगर आपको सही लगे तब या वह जनता के हित में हो तब.

एमएलए अपने निर्वाचन क्षेत्र के प्रतिनिधि के रूप में, वह अपनी जनता के हक के लिए (जिस जनता ने उसको चुना है) आवाज उठा सकता है और जनता की प्रमुख समस्याओं को हल कर सकता है.

एक विधायक किसी पार्टी का सदस्य भी होता है. तो वह उस पार्टी को अपना समर्थन दे सकता है या उसे नए सुझाव प्रदान कर सकता है. वह समारोह, सदन व विशेषज्ञता विकसित कर सकता है. जिससे की पार्टी आगे बड सके.

एक विधायक अपनी पार्टी के राजनीतिक भाग्य के आधार पर. विधायक कैबिनेट मंत्री या हम कहें विपक्षी आलोचक के रूप में कार्य कर सकता है व पार्टी के हित के लिए अपने हिसाब से कदम उठा सकता है अपने लेवल पर या फिर पार्टी को अपने सुझाब दे सकता है.

विधायक को स्थानीय क्षेत्र विकास यानी (LAD) फंड का सही से उपयोग करना आना चाहिए और अपने निर्वाचन क्षेत्र का विकास करना भी आना चाहिए.

एमएलए के लिए योग्यता क्या है-

एक एमएलए यानी कि, जिले का विधायक बनने के लिए बहुत सी अनेकों योग्यताओं का होना जरूरी है. जो कि सरकार के द्वारा निर्धारित की गई है. लेकिन कुछ प्रमुख योग्यताएं आप में होनी बहुत जरूरी हैं. जिससे आप इस पद के लिए एलिजिबल हो जाएंगे. जो कुछ इस प्रकार है.

उम्मीदवार को एक भारतीय नागरिक होना जरूरी है व भारतीय नागरिक होने के लिए उसके पास कोई सर्टिफिकेट होना बहुत जरूरी है. जो कि यह बात तय करें. कि वह भारत का ही नागरिक है और बहुत समय से भारत में ही रह रहा है.

विधायक पद के लिए आपकी उम्र 25 साल से अधिक होनी चाहिए.

विधायक बनने के लिए उम्मीदवार को अपने राज्य का मतदाता होना आवश्यक है.

विधायक बनने के लिए उम्मीदवार को मानसिक रूप से स्वस्थ होना आवश्यक है. यानी कि वह किसी भी बीमारी या पागलपन जैसी बीमारी से पीड़ित ना हो. जिससे कि आप एमएलए पद के लिए एक सही उम्मीदवार बन सकते हैं.

एमएलए बनने के बाद वेतन कितना मिलता है-

हमारे भारतवर्ष में 29 राज्य हैं. अलग अलग राज्य में एमएलए यानी विधायक का वेतन यानी मानदेय अलग अलग होता है. इसके लिए “विधायक निधि” सरकार के द्वारा दी जाती है. प्रत्येक राज्य विधानसभा में 1 करोड से 4 करोड़पति प्रति वर्ष यह ‘निधि’ दी जाती है और दोस्तों यह फंड हर राज्य में अलग-अलग होता है.

आज से पहले हमारे भारतवर्ष में तेलंगाना एक ऐसा राज्य है. जिस राज्य के विधायक का वेतन 2.5 लाख रुपए है व दिल्ली के विधायक का वेतन ₹2,10,000 रुपए है, उत्तर प्रदेश के विधायक का वेतन 1.87 रुपए है और वही अगर हम सबसे कम वेतन वाले राज्य की बात करें तो वह है. त्रिपुरा जहां के विधायक का वेतन ₹34,000 है.

Also Read : इंडिया की सबसे ज्यादा पैसा कमाने वाली 10 फ़िल्में

विधायक को दी जाने वाली सुविधाएं- 

ऐसी बात नहीं है, कि विधायक को केवल मानदेय ही दिया जाता है और उसके साथ बहुत सी सुविधाएं दी जाती हैं. जैसे बात करते हैं. उत्तर प्रदेश के विधायक को मिलने वाली सुविधाएं उत्तर प्रदेश का विधायक 5 साल के भीतर कार्य करता है.

जिसे इस कार्य के लिए विधायक निधि के रूप में 7 करोड रुपए मिलते हैं. इसके अलावा विधायक को और बहुत सी सुविधाएं मिलती हैं. जैसे 75,000 प्रतिमाह रुपए डीजल खर्च और साथ ही में ₹24,000 व्यक्तिगत सहायक के लिए और ₹6,000 मोबाइल खर्च के लिए और हम आपको बता दें. कि ₹6,000 चिकित्सा के लिए और ₹6,000 इन खर्चों के अलावा भी उसको दिए जाते हैं और दोस्तों विधायक को सरकार के गेस्ट हाउस में मुफ्त भोजन और रहने की सुविधाएं मुहैया कराई जाती है. यात्रा के लिए अलग से उनको खर्चा मिलता है और उसके अलावा भी विधायक को बहुत सी सुविधाएं दी जाती हैं.

तो दोस्तों आपको यह आर्टिकल कैसा लगा? अगर आप अपनी ज्ञान की सीमा को और बढ़ाना चाहते हैं, तो आप हमारे फेसबुक पेज पर विजिट कर सकते हैं।