जवाहर नवोदय विद्यालय में एडमिशन कैसे लें? Navodaya me admission kaise le

154

अगर आप आज के महंगाई के ज़माने में बिलकुल मुफ्त में बहुत अच्छी शिक्षा लेना चाहते हैं तो आपको जवाहर नवोदय विद्यालय के बारे में पता होना चाहिए। लेकिन Navodaya me admission kaise le? ये जानना बहुत जरूरी है क्योंकि नवोदय में एडमिशन लेना बहुत दांवपेच भरा हो सकता है।

इसमें बहुत से ऐसे कानून और भागदौड़ शामिल है जो आपको एडमिशन फॉर्म भरने से पहले करनी होगी, इसलिए आपको नवोदय का फॉर्म भरने से पहले इस पूरे आर्टिकल को जरुर पढना चाहिए।

जवाहर नवोदय विद्यालय बच्चों के लिए एक बेहतर स्कूल साबित हो सकता है क्योंकि यहाँ पर बच्चों के चहुंमुखी विकास पर जोर दिया जाता है। यहाँ पर बच्चे होस्टल में रहते हुए 7 साल गुजारते है तो इस समय के दौरान वो कई उतार चढ़ाव देखते हैं जिससे उनमें ज़िन्दगी की कठिनाइयों से लाधने की शक्ति विकसित होती है।

पढ़ाई की बात करें तो जवाहर नवोदय विद्यालय में CBSE बोर्ड की पढ़ाई होती है और इसके अलावा पूरे भारत में नवोदय के बच्चों का रिजल्ट हमेशा सबसे ऊपर रहता है। इससे भी हमें ये पता चलता है कि नवोदय वाकई में बहुत अच्छा माहौल देते हैं बच्चों के लिए।

इसके अलावा इस आर्टिकल में हम नवोदय के बारे में और भी कई बातें करेंगे क्योंकि मैं खुद नवोदय विद्यालय का विद्यार्थी रह चुका हूँ। मैं आपको नवोदय के हर कोने से वाकिफ कराने की कोशिश करूंगा। पर सबसे पहले हम नवोदय में एडमिशन के बारे में बात करेंगे।

navodaya me admission kaise le

अनुक्रम

नवोदय क्या है?

राष्ट्रिय शिक्षा निति 1986 के तहत भारत सरकार ने शिक्षा को भारत के हर हिस्से तक पहुँचाने के लिए और खासकर भारतीय गावों तक शिक्षा पहुंचाने के लिए एक ऐसे आवासीय विद्यालयों की परिकल्पना की गई जहां मामूली फीस में बच्चों को हर उत्तम सुविधा और शिक्षा दी जा सके।

इन विद्यालयों का नाम जवाहर नवोदय विद्यालय रखा गया। इन विद्यालयों में दाखिला लेने के लिए एक योग्यता टेस्ट भी रखा गया ताकि ग्रामीण और शहरी इलाकों से ऐसे बच्चों को चुना जा सके जो पढने में बहुत अच्छे हों और जो आगे की पढ़ाई के लिए भारी भरकम फीस देने में असमर्थ हों

फीस देने की क्षमता को ध्यान में न रखते हुए नवोदय विद्यालय को उन विशेष प्रतिभाशाली बच्चों के लिए बनाया गया जिन्हें शिक्षा के उचित अवसर मिलने चाहिए। और ऐसे बच्चों को एक बेहतर शिक्षा देकर नवोदय ग्रामीण प्रतिभाओं को आगे लाने में कामयाब भी रहा है।

टेस्ट परीक्षा पास करने के बाद चुने हुए छात्रों को रहने, पढने, खाने-पीने, खेलने, और रोज़मर्रा की ज़िन्दगी के लिए सभी सुविधाएं दी जाती है।

आज देशभर के लगभग हर एक जिले में एक नवोदय विद्यालय जरुर बना हुआ है, जिससे हमारे देश में जवाहर नवोदय विद्यालय की कुल संख्या 661 है और इतनी बड़ी प्रणाली को सुचारू रूप से चलाने के लिए नवोदय विद्यालय समिति का भी गठन किया गया।

नवोदय विद्यालय में दाखिला किस कक्षा में होता है

अगर आप अपने बच्चों को नवोदय विद्यालय में पढ़ाने के इच्छुक हैं तो आप निचे दी गई कक्षाओं में अपने बच्चे को नवोदय के लिए तैयार कर सकते हैं।

कक्षा छठी

देशभर के सभी नवोदय विद्यालयों की शुरुआत छठी कक्षा से ही होती है, इसलिए हर साल नवोदय विद्यालय समिति बच्चों को छठी कक्षा में एडमिशन लेने के लिए ऑनलाइन आवेदन फॉर्म जारी करती है।

दिसम्बर में ये फॉर्म्स आप नवोदय विद्यालय की ऑफिसियल वेबसाइट पर भर सकते हैं। फॉर्म भरने के बाद चयन परीक्षा के माध्यम से बच्चों को चुना जाता है।

यदि आप अपने बच्चे का एडमिशन नवोदय में छठी कक्षा में करवाना चाहते हैं तो आपको नवोदय विद्यालय की शर्तों को पूरा करते हुए ऑनलाइन फॉर्म भरना पड़ेगा। शर्तों के बारे में हम आगे चर्चा करेंगे।

जब आपका बच्चा पांचवीं कक्षा में हो जाता है तभी से आप उसे नवोदय के लिए तैयार करना शुरू कर दें। नवोदय का फॉर्म भरने के लिए जो जरूरी दस्तावेज हैं उन्हें भी बनवाना शुरू कर दें।

कक्षा नवीं

अगर आपके बच्चे नें आठवीं कक्षा बहुत अच्छे अंकों से उत्तीर्ण कर ली है तो उसके नवोदय में दाखिला लेने की सम्भावना बढ़ जाती है, मैं ऐसा इसलिए कह रहा हूँ क्योंकि नवोदय विद्यालय में नवीं कक्षा में दाखिला के लिए ऑनलाइन आवेदन तभी निकाले जाते हैं जब नवीं कक्षा में बच्चे कम हो गये हों या सीटें रिक्त हों

अगर सीटें रिक्त होती हैं तो ऑनलाइन आवेदन का फॉर्म निकाला जाता है, फिर परीक्षा के आधार पर और मेरिट के आधार पर बच्चों को एडमिशन के लिए चुना जाता है। यहाँ पर बच्चे के आठवीं कक्षा में प्राप्त किये गये अंक बहुत काम आते हैं।

इसलिए बच्चों और माता-पिता को अगर नवोदय विद्यालय के बारे में पहले से जानकारी होती है तो बच्चा नवोदय विद्यालय को फोकस में रखकर पढ़ाई कर सकता है।

कक्षा ग्यारहवीं

नवीं कक्षा की ही तरह नवोदय में सीटें खाली होने पर ग्यारहवीं कक्षा में भी बच्चों का चयन किया जाता है। इसमें भी बच्चों का चयन परीक्षा और मेरिट के आधार पर होता है।

इसके फॉर्म भी हर साल सितम्बर से दिसम्बर के बीच में नवोदय विद्यालय की ऑफिसियल वेबसाइट पर देखने को मिल जाते हैं। तो अगर आपका बच्चा अभी दसवीं कक्षा में पढ़ रहा है तो आप उसे ग्यारहवीं कक्षा में नवोदय में भेज सकते हैं।

नवोदय विद्यालय में प्रवेश हेतु आवश्यक दस्तावेज

नवोदय में दाखिले के लिए बच्चे और माता-पिता की तरफ से कुछ जरूरी दस्तावेज चाहिए होते हैं जो आपको पहले ही बनवा कर रख लेने चाहिए। सभी दस्तावेजों की सूचि निम्नलिखित है।

निवास प्रमाण पत्र

नवोदय विद्यालय में दाखिले के लिए उम्मीदवार यानि कि बच्चा उसी जगह का स्थानीय निवासी होना चाहिए जिस जिले के नवोदय में वो एडमिशन लेना चाहता है।

उदाहरण: यानि ऐसा नहीं हो सकता कि बच्चा अच्छी शिक्षा के लिए आगरा में पढ़ रहा है और नवोदय में एडमिशन के लिए पटना से आवेदन करे। बच्चा अगर आगरा से पढ़ाई कर रहा है तो उसे आगरा के ही नवोदय में एडमिशन मिल सकता है।

इसके लिए बच्चे के माता पिता को अपना स्थाई आवास प्रमाण पत्र दिखाना होता है। अगर आपके पास ये प्रमाण पत्र नहीं बना हुआ है तो इसे बनाने के लिए पहले ही आवेदन कर दें।

ये प्रमाण पत्र एडमिशन के समय लिया जाएगा।

जन्म प्रमाण पत्र

नवोदय में ऑनलाइन फॉर्म भरने के लिए बच्चे को नवोदय विद्यालय समिति की ओर से तय की गई आयु सीमा के बीच में ही होना चाहिए। ये सीमा 7 साल से 10 साल के लगभग होती है।

इसके अलावा नवोदय विद्यालय समिति की ओर से दो तिथियाँ दी जाती है जिनके बीच में ही बच्चे की उम्र होनी चाहिए। इसके प्रमाण के लिए बच्चे के पास जन्म प्रमाण पत्र होना जरूरी है। ग्यारहवीं कक्षा के लिए दसवीं कक्षा पर लिखी हुई जन्म तारीख चल जाती है, लेकिन अगर बच्चा छठी कक्षा में एडमिशन लेना चाहता है तो उसके पास जन्म प्रमाण पत्र होना आवश्यक है।

जाति प्रमाण पत्र

जाति के आधार पर नवोदय विद्यालय बच्चों को और भी कई सुविधाएं देता है, जिसके लिए आपको जाति प्रमाण पत्र की जरूरत पड़ेगी।

विकलांग प्रमाण पत्र

अगर बच्चा किसी भी प्रकार से विकलांग है तो उसके लिए भी नवोदय में अलग से सुविधाएं और आरक्षण उपलब्ध है, तो इस केस में विकलांगता प्रमाण पत्र जरुर बनवा कर रखें।

स्कूल द्वारा दिए गये प्रमाण पत्र

नवोदय विद्यालय समिति के अनुसार बच्चे नें कक्षा-3, 4 और 5 बिना रिपीट किये हुए पास की हो और जिस स्कूल से उसने पढ़ाई की है वो उस जिले का या तो सरकारी स्कूल हो या फिर सरकारी मान्यता प्राप्त स्कूल अवश्य होना चाहिए।

जरूरत पड़ने पर आपको ये सिद्ध करना पड़ सकता है इसलिए स्कूल के प्रमाण पत्रों को संभाल कर रखें।

आधार कार्ड

अगर बच्चे के माता-पिता या खुद बच्चा नवोदय से कुछ अतिरिक्त लाभ लेना चाहते हैं जैसे कि फीस माफ़ी, या अन्य सब्सिडी तो बच्चे का आधार कार्ड होना जरूरी है। लेकिन अगर बच्चे का आधार कार्ड नहीं बना है तो माता-पिता का आधार कार्ड भी प्रमाण पत्र के साथ लगाया जा सकता है।

सभी जरूरी दस्तावेज पूरे करने के बारी आती है नवोदय में आवेदन करने की

नवोदय में कक्षा 6 के लिए आवेदन कैसे करें | Navodaya Me Admission Kaise Le

कक्षा 6 के लिए आवेदन करने के लिए आप निम्नलिखित प्रक्रिया को देखें

  • एडमिशन फॉर्म भरने के लिए आपको सबसे पहले नवोदय की ऑफिसियल वेबसाइट Navodaya Vidyalaya Samiti पर जाना होगा।
  • वेबसाइट पर ANNOUNCEMENT सेक्शन में आपको Online Application Form भरने का लिंक मिल जायेगा। लिंक पर क्लिक करके आपको उस पेज पर जाना होगा।
  • उसके बाद आपको एक फॉर्म डाउनलोड का लिंक दिखाई देगा, जिसमें एक pdf file होगी। आप use पहले डाउनलोड कर लीजिये।
  • उस PDF File को प्रिंट करके फॉर्म को अपने हाथों से भर लीजिये। ये file आपको फॉर्म भरते समय अपलोड करनी होगी।
  • अब आप ऑनलाइन एप्लीकेशन फॉर्म को भर दीजिये, जो कुछ वेबसाइट पर जानकारी मांगी गई है उसे सही से भरें और भरने के बाद दोबारा चेक भी कर लें।
  • एक पासपोर्ट साइज़ फोटो भी अपने साथ रखें और एक साफ़ पेपर पर अपने हस्ताक्षर करके, सबको स्कैन कर लें। ये सारी चीजें आपको फॉर्म भरते समय अपलोड करनी होंगी।
  • फॉर्म भरने के बाद Review करने का आप्शन रहेगा उस पर क्लिक करें।
  • अपने फॉर्म को दोबारा से देख लें, कहीं पर भी गलती नहीं होनी चाहिए। नहीं तो आगे बहुत परेशानी हो सकती है और भागदौड़ करनी पड सकती है। सारी जानकारी सही होने पर फॉर्म को फाइनल सबमिट कर दें।
  • इस तरह आपका फॉर्म भरा जाता है। आपको एक रजिस्ट्रेशन नंबर मिलेगा जो आपको बहुत संभाल कर रखना होगा, क्योंकि आपका आगे का सारा प्रोसेस ऑनलाइन ही रहेगा।
  • आपके एडमिट कार्ड को डाउनलोड करने का आप्शन भी ऑनलाइन ही रहेगा इसलिए रजिस्ट्रेशन नंबर को संभल कर रखें।
Navodaya online admission form website

Navodaya Student Login

अगर आपने ऑनलाइन नवोदय का फॉर्म भर दिया है तो आपका आगे का सारा काम ऑनलाइन ही रहने वाला है इसलिए आपको अपना रजिस्ट्रेशन नंबर याद रखना होगा।

  • नवोदय की वेबसाइट पर आपको Student Login Page पर जाना होगा
  • अपने रजिस्ट्रेशन नंबर और Date Of Birth डालना होगा
  • फिर निचे दिया गया एक आसान सा काप्त्चा हल करना होगा
  • उसके बाद निचे Sign In के बटन पर क्लिक करके आप login कर सकते हैं। जहाँ से आप आगे की सारी प्रोसेस को जारी रख पायेंगे।
Navodaya Student Login Page

नवोदय में पढने के फायदे

नवोदय में लड़कियों को पढने के लिए कोई भी फीस नहीं देनी पड़ती। इसके अलावा सभी बच्चों को बिलकुल मुफ्त में रहने खाने और हर प्रकार की सुविधाएं दी जाती हैं।

नवोदय में कौन एडमिशन ले सकता है?

नवोदय में कोई भी भारतीय छात्र जो मान्यता प्राप्त स्कूल में पढता है और वो नवोदय की सभी कंडीशन को पूरा करता है तो वो नवोदय में एडमिशन लेने के लिए आवेदन कर सकता है। नवोदय में एडमिशन सिर्फ मेरिट के हिसाब से ही दी जाती है।

नवोदय के फॉर्म कौन कौन सी क्लास में भरे जाते हैं?

नवोदय में दाखिले के लिए आप कक्षा 6, कक्षा 9 और कक्षा 11 में आवेदन कर सकते हैं। इन सभी के फॉर्म आपको नवोदय को ऑफिसियल वेबसाइट पर मिल जायेंगे।

क्या नवोदय स्कूल फ्री है?

जी हाँ, नवोदय बिलकुल फ्री है। नवोदय में लड़कियों की कोई भी फीस नहीं है। SC छात्रों की भी कोई फीस नहीं है लेकिन अगर आप OBC या General हैं तो आपको मामूली फीस देनी पड़ सकती है।

नवोदय विद्यालय की फीस कितनी है?

नवोदय में छठी कक्षा से लेकर आठवीं कक्षा तक कोई भी फीस नहीं लगती, इसके अलावा लड़कियों के लिए नवोदय बिलकुल फ्री है। OBC और General बच्चों की नौवीं से बारहवीं तक मामूली फीस लगती है।

क्या प्राइवेट स्कूल के छात्र नवोदय के लिए आवेदन कर सकते हैं?

प्राइवेट स्कूल के छात्र नवोदय के लिए आवेदन कर सकते हैं लेकिन शर्त ये है की आपका स्कूल मान्यता प्राप्त होना चाहिए।


कौन सा बेहतर सैनिक स्कूल या नवोदय है?

नवोदय को यहाँ पर सैनिक स्कूल से बेहतर माना जा सकता है क्योंकि नवोदय में कोई भी दाखिला ले सकता है और यहाँ पर सुविधाएं ग्रामीण बच्चों और इलाकों के हिसाब से ही दी जाती हैं।

क्या नवोदय एक अच्छा स्कूल है?

नवोदय विद्यालय एक अच्छा स्कूल है क्योंकि यहाँ पर बच्चों के विकास के लिए हर प्रकार से सहायता प्रदान की जाती है।

एक जिले में कितने नवोदय विद्यालय होते हैं?

भारत के हर जिले में एक नवोदय विद्यालय होता है। जो जिले नये बनते हैं वहां पर ये विद्यालय तत्काल प्रभाव से नहीं बन पाते।

नवोदय विद्यालय किसकी देन है?

भारतीय सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालय ही नवोदय विद्यालय चलाता है।