Mars Spacesuit की टेस्टिंग हो रही है मंगल ग्रह पर

2343

चांद व मंगल पर घर बनाने का आप का सपना अब बहुत जल्द पूरा होने जा रहा है. इसके लिए टेस्टिंग भी चल रही है और एस्ट्रोनॉट को अंतरिक्ष में भेजा जा रहा है. अंतरिक्ष एजेंसियां लगी हुई है दिन-रात यह कार्य करने के लिए. वही Mars Spacesuit की भी टेस्टिंग की जा रही है. कि वह अच्छे से काम करें. और एस्ट्रोनॉट को अंतरिक्ष में कोई भी परेशानी का सामना ना करना पड़े उसी के लिए स्पेस सूट में काफी ज्यादा मटेरियल का भी प्रयोग किया गया है बताएंगे आपको इसी आर्टिकल में बस आप ध्यान से पढ़िए.

अनुक्रम

spacesuit क्या है?

स्पेस में जाने से पहले अंतरिक्ष यात्री को एक अलग प्रकार की पोशाक पहनाई जाती है. जिसे स्पेसशूट कहते हैं और जिसके कपड़े को बहुत ही महत्वपूर्ण मटेरियल से बनाया जाता है. जो कि अंतरिक्ष में वैक्यूम और तापमान से व्यक्ति को बचाता है और जिंदा रखता है. यह इसलिए भी जरूरी होता है क्योंकि अंतरिक्ष में पृथ्वी जैसा वातावरण नहीं पाया जाता बल्कि वहां पर तो वातावरण होता ही नहीं है.

क्या है Ortho-Fabric?

Ortho-Fabric एक ऐसा मटेरियल है जिसका प्रयोग स्पेस सूट बनाने के लिए किया जाता है. बल्कि ऑर्थो फैब्रिक को बनाने के लिए भी तीन प्रकार के मटेरियल का प्रयोग होता है. Nomex,Gore-Tex, Kevlar इन तीनों मटेरियल का अपना अलग-अलग काम होता है और यह बहुत ही रेयर होते हैं.

Nomex क्या है? और ये Mars Spacesuit में क्या काम आएगा?

फैब्रिक में डलने वाला यह मटेरियल Nomex अंतरिक्ष यात्री को वहां पर मौजूद आग जैसी परिस्थिति में भी गर्माहट महसूस नहीं होने देता है और यह मटेरियल गरम से गर्म इलाके मैं या किसी भी प्लेनेट पर अंतरिक्ष यात्री को वहां की गर्मी से बचाता है वैसे इसका उपयोग फिल्मों में आग वाले सीन को फिल्माने के लिए भी करते हैं.

Gore-Tex क्या है? और ये spacesuit में क्या काम आता है?

गौर-टैक्स (Gore-Tex) भी एक ऑर्थो फैब्रिक का ही भाग है. जो कि अंतरिक्ष यात्रियों को पानी की सीलन से बचाता है.इसमे साँस भी ली जा सकती है. यहां तक कि यह मटेरियल वाटर प्रूफ भी है और इसका प्रयोग वाटरप्रूफ किसी भी मटेरियल को बनाने में भी करते हैं. गोर-टेक्स तरल पानी को पीछे छोड़ सकता है, जबकि जल वाष्प को गुजरने की अनुमति देता है.

Kevlar क्या है? और ये spacesuit में क्या काम आता है?

केवलर भी एक ऑर्थो फैब्रिक का ही मटेरियल होता है. इसको अंतरिक्ष सूट बनाने के लिए प्रयोग किया जाता है. यह अंतरिक्ष यात्री को अंतरिक्ष में किसी भी प्रकार के एस्ट्रॉयड या पत्थर से उसको बचाता है और केवलर एक गर्मी प्रतिरोधी और मजबूत सिंथेटिक फाइबर है, इसका प्रयोग बुलेट प्रूफ जैकेट बनाने के लिए भी करते हैं.

Teflon क्यों उपयोग किया जाता है?

टेफलॉन मैटेरियल का प्रयोग अंतरिक्ष यात्रियों के दस्ताने बनाने के लिए प्रयोग करते हैं. व दस्तानों के ऊपरी भाग व निचले भाग में इसका प्रयोग किया जाता है यह काफी ज्यादा इस स्मूथ भी होता है और फटता भी नहीं है. क्योंकि अंतरिक्ष में पाई जाने वाली मिट्टी इतनी ज्यादा शार्प होती है की जिसके मटेरियल का कुछ कण स्पेस सूट पर लग जाएं तो वह धीरे-धीरे करके सूट को काट भी सकते हैं. इसीलिए इस मटेरियल का प्रयोग दस्ताने बनाने में व दस्तानों के ऊपरी भाग और निचले भाग को बनाने में करते हैं.और सभी जानते हैं कि आजकल दो पहिया और चौपहिया वाहनों के पेन्ट की सुरक्षा के लिए टेफ्लान कोटिंग की जाती है, ताकि पेन्ट को स्क्रैच न लगे।

Spacesuit में Vectran क्या काम आता है?

स्पेस सूट में Vectran मटेरियल को स्पेस सूट की हथेलियों के अंदर के भाग को बनाने के लिए इसका प्रयोग किया जाता है, यह मटेरियल कट रेजिस्टेंस होता है जोकि स्पेस की सतह के लिए बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण है. व वेक्ट्रन मटेरियल अंतरिक्ष यात्री के दस्तानों को कटने से भी बचाता है. Mars Spacesuit के मैटेरियल्स की टेस्टिंग के लिए इसे भी मिशन के साथ भेजा गया है|

Spacesuit में Polycarbonate कहाँ काम आता है?

यह मटेरियल प्रयोग किया जाता है स्पेस सूट के हेलमेट में जो कि सूर्य से आने वाली अल्ट्रावॉयलेट किरणों को रोकता है पॉलीकार्बोनेट को हेलमेट में यूज करने की सबसे बड़ी वजह यह है कि यह मटेरियल टूटता नहीं है. बल्कि टूटने की जगह बैंड हो जाता है और अल्ट्रावायलेट किरणों से भी अंतरिक्ष यात्री को बचाता है. इसका यह फायदा होता है कि जब भी अंतरिक्ष यात्री किसी भी चीज से टकरा जाता है. तो उसका हेलमेट टूटेगा नहीं जिसकी वजह से वह आसानी से अपने आप का बचाव कर सकता है.

Mars के लिए अलग से Mars Spacesuit बनाने की क्या जरुरत पड़ी?

Mars के लिए अलग से सूट बनाना इसलिए जरूरी है. क्योंकि Mars का वातावरण अलग है. जैसे हमारी पृथ्वी में मौजूद ओजोन लेयर सूरज से आने वाली अल्ट्रावॉयलेट किरणों को रोक देती है वैसे ही Mars पर यह उपलब्ध नहीं है व Mars पर सीधे ही सूर्य से सारी अल्ट्रावॉयलेट किरणें आती रहती हैं. यहां तक कि वहां पर वातावरण नाम की कोई चीज नहीं है. लेकिन हम बस केवल अभी तक अपने पृथ्वी के वातावरण में रहे हैं व हमें वही रहना पसंद है. पृथ्वी की तरह, मंगल भी एक स्थलीय धरातल वाला ग्रह है। लेकिन वहां की परिस्थितियाँ ऐसी नहीं हैं कि हम मंगल पर बिना spacesuit के रह पायें, इसलिए हमें मंगल ग्रह के लिए एक विशेष सूट की जरूरत पड़ेगी जिसे हम Mars spacesuit कहेंगे|

जानिये कॉमेट स्वान के बारे में! Comet Swan
धरती पर जीवन किन-किन तरीकों से मिट सकता है?

Moon और Mars की परिस्थितियाँ कैसे अलग हैं

वातावरण के तौर पर Mars का वातावरण काफी ज्यादा पतला है. लेकिन वही Moon की बात करें तो वहां पर कोई वातावरण ही नहीं है. यानी कि जैसे हम अपनी पृथ्वी पर रहते हैं. यहां ऑक्सीजन है जिसकी वजह से हम इंसान जिंदा रहते हैं और हमारी पृथ्वी को सूर्य से आने वाली पराबैंगनी किरणों से ओजोन लेयर हमको बचाती है. वैसे ही मून और मार्स पर सूर्य से आने वाली अल्ट्रावॉयलेट किरणें वहां के चारों तरफ फैली हैं. जिसमें कोई भी इंसान बहुत कम समय तक ही रह सकता है और वहां सरवाइव करना भी काफी ज्यादा मुश्किल है इसीलिए अंतरिक्ष में जाने के लिए स्पेस सूट बनाए जाते हैं. जोकि मून और मार्स की परिस्थितियों में एस्ट्रोनॉट को सुरक्षित रख सकें और वहां के अनजाने खतरों से उन्हें बचा सके क्योंकि यहां परिस्थितियां काफी ज्यादा पृथ्वी से अलग हैं. लेकिन आने वाले भविष्य में हम मून और मार्स पर अपने घर बना चुके होंगे देखते हैं. यह कार्य कब तक होता है. वैसे नासा व विभिन्न प्रकार की स्पेस एजेंसीओं का दावा है, कि वह 2036 तक मार्स को कॉलोनाइज कर सकती हैं तो इस समय से पहले ही Mars spacesuit बनाए जा सकते हैं|

NASA का Artemis Mission क्यों अहम है मंगल पर जाने के लिए?

Artemis Mission अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के द्वारा निर्देशित किया जा रहा है. ये एक अंतरिक्ष कार्यक्रम है जिसका लक्ष्य हमारे चांद पर दोबारा से मनुष्य को भेजना है और वहां से जरूरी जानकारी को जुटाना है. वैसे आर्टेमिस कार्यक्रम चंद्रमा पर एक स्थाई उपस्थिति स्थापित करने के नासा के दीर्घकालीन लक्ष्य की दिशा में पहला कदम है. यानि कहने का मतलब यह है कि अगर हमें मार्श को कॉलोनाइज करना है. तो उसके लिए हमें चांद को सबसे पहले कॉलोनाइज करना होगा और यही मिशन है आर्टेमिस जो कि नासा के द्वारा निर्देशित किया जा रहा है.

spacesuit का भविष्य क्या है?

आने वाले समय में जैसा कि यह अंतरिक्ष एजेंसियां बता रही हैं कि हम यानी कि कोई साधारण इंसान भी अंतरिक्ष में जा सकता है. तो उसके लिए एक स्पेशल काफी ज्यादा अहम कॉस्टयूम होना हमारे लिए बेहद जरूरी है. जिसका काम कर रहा है स्पेस सूट. जो कि हमें अंतरिक्ष में जिंदा रखेगा ऐसे में स्पेस सूट का अच्छा और अंतरिक्ष के वातावरण के अनुरूप होना बेहद ही जरूरी है. वैसे देखा जाए तो हमारे भविष्य में भी स्पेस सूट काफी ज्यादा काम आने वाले हैं.

Mars को Colonize कब तक किया जा सकता है?

अभी हाल ही में आर्टेमिस मिशन चंद्रमा पर भेजा गया है. इस मिशन का कार्य है कि वह चांद को कॉलोनाइज कर सके क्योंकि हमें Mars को कॉलोनाइज करने के लिए सबसे पहले चांद को कॉलोनाइज करना पड़ेगा. हां थोड़ा मुश्किल हो सकता है लेकिन ना मुमकिन नहीं है. जिसके लिए आर्टेमिस मिशन भेजा गया है. जैसे ही हम चंद्रमा को कॉलोनाइज कर देते हैं. वैसे ही आर्टेमिस मिशन इस मिशन के दूसरे पाठ व तीसरे पाठ को भेजेंगे जिससे कि हम mars को भी कॉलोनाइज कर लेंगे और नासा का यह दावा है कि वह 2036 तक मार्च को भी कॉलोनाइज कर लेंगे देखते हैं यह हो पाता है या फिर नहीं.