जानिये कॉमेट स्वान के बारे में! Comet Swan

2436

25 March 2020 को सोलर विंड अनिसोट्रोफिज़(SWAN) में ली गयी एक तस्वीर में “कॉमेट स्वान” सबसे पहले देखा गया। सोलर एंड हेलियोस्फेरिक ऑब्सेवाट्री ने सबसे पहले इस कॉमेंट को देखा। यह कॉमेट पृथ्वी से लगभग 120 मिलियन के दुरी पर पेर्सेउस कांस्टेलेशन में स्तिथ है। और Comet Swan का अपरेन्ट मैग्नीट्यूड 7 का है।

अनुक्रम

कॉमेंट किसे कहते है?

आजसे 450 करोड़ साल पहले जब हमारा सोलर सिस्टम बना, तब जो टुकड़े जो बड़े बर्फ या पानी, कार्बन, अमोनिया, डस्ट, से बने होते थे, जो किसी बड़े ग्रह नही बन पाए, और वह तुड़के सोलर सिस्टम के काफी बहार के हिस्से में मौजुद होते है, उसे कॉमेट कहेते है, यह तो हमारे सौर मंडल की बात हुयी, ऐसे ही जो कॉमेंट्स होते है, वह किसी भो सोलर सिस्टम के बहार के हीस्से में मौजूद होते है।

comet swan
comet swan

कॉमेंट्स कितने प्रकार के होते है?

कॉमेंट्स आम तौर पर 4 प्रकार के होते है।

1. पीरियोडिक कॉमेंट्स:- यह ऐसे कॉमेंट होते है, जो कुछ वर्षों के अंतराल पर सूर्य का चक्कर लगाते है, जैसे की(Halley Comet)।

2. नॉन-पीरियोडिक कॉमेंट्स:- यह ऐसे कॉमेंट होते है, जो सूर्य का चक्कर एक तय अंतराल में नही लगाते, कभी भी आते है, और हर बार एक अलग अंतराल में सूर्य का चक्कर लगाते है, ऐसे कॉमेंट्स को नॉन-पीरियोडिक कॉमेंट्स कहते है। जैसे की ( Comet Hale-Bopp)

3. नॉन-ऑर्बिटल:- यह ऐसे कॉमेंट्स होते है, जो जिनकी सूर्य की परिक्रिमा निश्चित नही होती और वे सूर्य की अलग-अलग परिक्रिमा करते है। कभी काफी बड़ी तो कभी काफी छोटि, ऐसी होती है, इनकी परिक्रिमा।

4. लॉस्ट कॉमेंट्स:- यह ऐसे कॉमेंट्स होते है, जो अंतिरिक्ष में खो जाते है, ऐसे कॉमेंट पर सूर्य के गुर्तुअकर्षण का प्रभाव भी कम पड़ता है, यह अंतिरिक्ष में भटकते रहते है।

Comet Swan कोनसे प्रकार का है?

Comet Swan एक पीरियाडिक कॉमेंट् है, जो सूर्य की पर्रिक्रिमा एक तय अंतराल में करता है, और हर एक तय अंतराल में यह सूर्य के चक्कर लगायेगा इसीलिये हम इसे धरती पर से हर एक अंतराल के समय देख सकते है।

कॉमेट स्वान की खोज!

Comet Swan की खोज सोलर एंड हेलियोस्पेहरिक नामक ऑब्सेवेट्री ने की थी। यह खोज 25 मार्च 2020 को हुयी थी।

Comet Swan की परिक्रिमा!

कॉमेट स्वान सूर्य का चक्कर लगाता है, हर एक 2.5 करोड़ सालो में। इसकी सूर्य से सबसे लंबी दुरी है, 6.4 करोड़ किलोमीटर। कॉमेट स्वान का ऑब्सर्वशनल आर्क है, 18 दिनों का। यानी इसकी लेटेस्ट ऑब्जरवेशन और सबसे पहली ऑब्जरवेशन के बीच में 18 दिनो का फर्क है। कॉमेट स्वान एक हाइपरबोलिक पाथ पर चलता है, और उस हायपरबोला की इससे एसेंट्रिसिटी 1.0009 है। 12 मई 2020 को यह कॉमेट स्वान धरती से 8.4 करोड़ किलोमीटर की दुरी से गुजरेगा। और 27 मई 2020 को Comet Swan सूर्य से सबसे दूर हो जाएगा, और वह भी 6.4 करोड़ किलोमीटर दूर।

क्या होगा जब Comet Swan सूर्य के नजदीक जाएगा?

जब कॉमेट स्वान सूर्य के पास जाएगा तो कॉमेट मे उपस्थित बर्फ वाष्प बन जाएगी और फिर solar-wind उसको पीछे की और धकलेगी जिससे कॉमेट स्वान की एक टेल जैसी आकृति आपको नजर आएगी। हालांकि कभी कभी सूर्य के पास से गुजरते वक़्त कॉमेट ज्यादा गर्म होकर टूट भी जाते है। इसलिए ये देखने वाकई बात होगी कि कॉमेट स्वान सूर्य के पास से सही सलामत गुजर पाता है या नही।

क्या हम इसको देख सकते है ?

अभी कॉमेट स्वान पृथ्वी से दिखाई दे रहा है। इसकी हरे रंग की टेल को भी आप आसानी से देख सकते है। यह कॉमेट मई के आखरी सप्ताह मे सबसे चमकीला दिखेगा और तब यह दूसरे तारो की तरह ही बिना किसी टेलिस्कोप के सबको दिखाई देगा।

हम Comet Swan कैसे देख सकते है?

यह पूर्णतः इस बात पर निर्भर करता है कि आप equator के उत्तर मे रहते है या दक्षिण मे। अगर आप दक्षिण मे रहते है तो आप इसको बिना किसी उपकरण के, सिर्फ और सिर्फ अपनी आँखों द्वारा देख सकते है मगर अगर आप उत्तर मे रहते है तो आपको इसको देखने के लिए टेलिस्कोप या बाइनोकुलर्स की मदद लेनी पड़ेगी। हालाँकि मई के आखरी सप्ताह मे आपको इसको बिना किसी उपकरण के देखने का मौका मिल सकता है। मगर फिर भी बाइनोकुलर्स से आप इसको और अच्छे से देख पाएंगे और इसकी हर बारिकी आपको दिखाई देगी।

मई मे आने वाला दूसरा कॉमेट

हम इस महीने मे सिर्फ कॉमेट स्वान का ही नही बल्कि एक दूसरे कॉमेट जिसका नाम एटलस है उसका भी इंतज़ार कर रहे थे मगर वह कॉमेट टूट गया। जी हां, यह कॉमेट सूर्य की गर्मी से कई छोटे छोटे टुकड़ों मे टूट गया जिससे इसकी चमक और सुंदरता दोनों खत्म होगई। हम उम्मीद करते है कि ऐसा कुछ कॉमेट स्वान के साथ न हो ताकि सभी stargazers इस मौके का फायदा उठा सके और अपने कॉमेंट देखने के शौक को पूरा कर सके।

कॉमेट स्वान के बारे मे इतना ही। अगर आपको आर्टिकल अच्छा लगा हो तो जरूर कमेंट करेऔर इसको अपने दोस्तों के साथ शेयर करे। आपका इसको लेकर कोई सवाल हो तो आप हमको कमेंट कर सजते है हम आपके सवाल का जवाब जरूर देंगे।

अगर आप ऐसे ही कमाल के आर्टिकल और पढ़ना चाहते है, तो नोटिफिशन ऑन करे और जैसे हमारी वेबसाइट Briefingpedia पर कोई नया आर्टिकल आएगा आपको उसका नोटिफिशन मिल जाएगा।