क्या अतीत मैं समय यात्रा करना संभव है? (Grandfather paradox in hindi)

3546

आपके मन में कभी ना कभी यह ख्याल जरूर आया होगा कि कितना अच्छा होता अगर आप समय में पीछे जाकर ताजमहल को अपनी आंखों से बनते हुए देख पाते या फिर अपने भविष्य में जाकर यह देख पाते कि 100 साल बाद हमारी धरती कैसे होगी। टाइम ट्रैवल हमेशा से ही इंसानों के लिए एक रोचक विषय रहा है। अल्बर्ट आइंस्टीन की थ्योरी ऑफ स्पेशल रिलेटिविटी ने हमें यह बताया कि टाइम असल में absolute नहीं होता बल्कि यह relative होता है। अगर कोई भी ऑब्जेक्ट बहुत ही तेज गति से ट्रैवलल करेगा तो उसके लिए समय धीमा हो जाएगा लेकिन यह तेज गति हमारे आसपास देखे जाने वाली चीजों से भी कहीं तेज होगी।
यह गति इतनी होगी कि इसे लाइट की स्पीड के साथ रखकर देखा जा सके जैसे की लाइट की स्पीड का 50%, 60%, 99% आदि।

अब जरा सोचिए कि क्या होगा अगर आप प्रकाश की गति के 80% गति से चलें। मान लीजिए कि पृथ्वी के चारों तरफ एक ट्रेन है जो कि करीब 240000 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड से पृथ्वी का चक्कर लगा रही है और आप उस ट्रेन के अंदर हो तो ऐसे में आपके लिए समय धीमा गुजरेगा और जो लोग ट्रेन के बाहर हैं उनके लिए समय सही बीतेगा। इसका मतलब यह है कि आप जब तक उस ट्रेन में एक घंटा गुजार होगे तब तक बाहर कई साल गुजर चुके होंगे और ट्रेन से बाहर निकलते ही आप अपने आप को भविष्य में देखोगे। मतलब कि आप टाइम ट्रैवल करके अपने भविष्य में पहुंच गए हो।

भविष्य में समय यात्रा करना तो थियोरेटिकली पॉसिबल है। पर क्या हम अपने अतीत में अपने भूतकाल में समय यात्रा कर सकते हैं? आप सोच रहे होंगे कि अगर हम समय यात्रा करके अपने भविष्य में जा सकते हैं तो हम अपने अतीत में भी समय यात्रा कर सकते हैं पर जरा रूकिए। अतीत में समय यात्रा करने की बात जब भी आती है तो हमारे सामने कुछ पैराडॉक्स आते हैं। पैराडॉक्स मतलब ऐसे सवाल जिनका कोई भी सटीक रूप से सही जवाब नहीं दे पाता।


अतीत में समय यात्रा को लेकर कई ऐसे पैराडॉक्स जिन्हें आज तक कोई भी नहीं सुलझा पाया है इन्हीं में से एक है Grandfather paradox
आइए जानते हैं Grandfather paradox क्या है?

मान लीजिए कि आपके पास कोई टाइम मशीन है जिसमें बैठकर आप अपने अतीत में चले गए।
आप उस समय में गए जब आपके दादाजी करीब 15 साल के थे, जब आपके दादाजी की शादी नहीं हुयी थी। आप उस समय में गए और आपने अपने दादाजी को गोली मार दी। क्या आप जानते हैं अब क्या होगा? सिंपल सी बात है आपके दादा जी मर जाएंगे बस यही से तो कहानी शुरू होती है। आपके दादाजी ने आपके पिता जी को पैदा किया, और आपके पिता जी ने आपको पैदा किया। और आपने समय यात्रा करके अपने दादा को गोली मार दी। तो अगर आपने दादाजी को ही मार दिया तो आपका अस्तित्व भी होगा क्योंकि आपके दादाजी ने ही आपके पिता जी को पैदा किया थी लेकिन जब दादाजी ही नही होंगे तो आपके पिता जी का भी अस्तित्व नहीं रहेगा और अगर पिता जी नही हैं तो आपका अस्तित्व भी नहीं रहेगा। पर जरा रूकिये अगर आपका अस्तित्व नहीं है तो वो कौन था जिसने समय में पीछे जाकर आपके दादाजी को गोली मार दी। क्या वो आप ही थे अगर हां तो दादाजी को मरने के बाद तो आपका अस्तित्व मिट गया था तो फिर वो व्यक्ति आप कैसे हो सकते हो।
जिस तरह इस वक्त आपका दिमाग चकरा रहा है उसी तरह वैज्ञानिकों का दिमाग भी चकरा गया था जब यह पैराडॉक्स उनके सामने आया था। असल में यह पैराडॉक्स अतीत में समय यात्रा करने की कल्पना के ऊपर एक प्रश्नचिन्ह लगाता है। आज तक इस paradox का कोई भी सही रूप से उत्तर नहीं दे पाया है। इस paradox पर कई वैज्ञानिक यह कहते हैं कि कि शायद अतीत में समय यात्रा करना संभव ही नहीं है।

दोस्तों आपको क्या लगता है कि अतीत में समय यात्रा करना संभव है या नहीं अपनी राय नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

तो दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हमने अतीत में समय यात्रा करने की परिकल्पना और उसको चुनौती देने वाले Grandfather paradox के बारे में जाना। उम्मीद है आपको ये आर्टिकल पसंद आया होगा अगर आपको ये आर्टिकल पसंद आया है तो इसे अपने दोस्तों और परिजनों के साथ जरूर शेयर कीजिए।
मैं मिलता हूं आपको बहुत जल्द एक नए आर्टिकल के साथ तब तक के लिए नमस्कार।