NARCO Test क्या है? नार्को टेस्ट क्यों और कैसे किया जाता है

2220

आज आपको हम डिटेल में बताएँगे की Narco test क्या होता है, नार्को टेस्ट कैसे किया जाता है और NARCO Test क्यों किया जाता है| अगर आपने इसके बारे में कही सुना या देखा है तभी आप नारको टेस्ट के बारे में जानने के लिए आयें हैं तो हमारे बनाये गए इस आर्टिकल में आपको पूरी नॉलेज दी गयी है इसलिए इसको शुरू से लेकर अंत तक जरुर पड़े|

अनुक्रम

NARCO Test क्या है

Narco Test का प्रयोग किसी व्यक्ति से जानकारी प्राप्त करने के लिए किया जाता है| यह कोई दवा नही होती बल्कि एक टेस्ट होता है जो मशीनों व् ड्रग्स की सहायता से किसी अपराधी पर कानून की इजाजद लेकर किया जाता है| आम भाषा में कहे तो अपराधी से सच उगलवाने की पूरी संभावना रहती है| यह बहुत कम देखा गया है कि नारको टेस्ट करने के बाद अपराधी सच न बोले|

Narco Test नारको टेस्ट

NARCO Test कैसे किया जाता है

नारको टेस्ट करने से पहले व्यक्ति का फिजिकल टेस्ट यानी कि शारीरिक परीक्षण करना बहुत जरूरी होता है. इसमें यह क्या किया जाता है कि मनुष्य पूरी तरह से स्वस्थ है. वह किसी रोग से पीड़ित तो नहीं है या उसे पहले से कोई बीमारी तो नहीं है या बहुत ज्यादा बुजुर्ग तो नहीं है क्या दिमागी रूप से वह सही है या नहीं है. अगर ऐसा पाया जाता है तो उसके साथ नारको टेस्ट करने की सरकार द्वारा इजाजत नहीं मिलती है फिर बाद में व्यक्ति की सेहत उम्र और जेंडर के आधार पर उसको दवाइया व् ड्रग्स दिया जाता है|

कई बार ऐसा भी देखा गया है की दवाईयों के अधिक डोज से नारको टेस्ट फेल भी हो जाता है. इससे व्यक्ति अधिक बेहोशी की स्थिति में भी चला जाता है. जिसकी वजह से वह जबाब भी नही दे पाता है|

NARCO Test कौन करता है

ये टेस्ट फॉरेंसिक एक्सपर्ट, जांच अधिकारी, डॉक्टर और मनोवैज्ञानिक आदि की टीम एकसाथ मिलकर करती है. इसके लिए पहले व्यक्ति को ट्रुथ ड्रग नाम से आने वाली एक साइकोएक्टिव दवा दी जाती है. कई मामलों में सोडियम पेंटोथोल का इंजेक्शन लगाया जाता है. इसके तुरंत बाद जब डॉक्टर सुस्त अवस्था में सोच रहे व्यक्ति से सवाल-जवाब घटनाक्रम, हत्या आदि के बारे में पूछा जाता है| तो इस दौरान व्यक्त‍ि में तर्क क्षमता काफी कम होती है ऐसे में उससे सच उगलवाने की गुंजाइश बढ़ जाती है|

आप ऐसा मान सकते हो की उसको नशे में लाकर उस अपराधी से सवाल व जबाब किये जाते है. उसकी उंगलियों में एक मशीन को ऐड कर दिया जाता है. उसके सर को भी जकड लिया जाता है. आप नीचे नारको टेस्ट के कुछ फ़ोटो भी देख सकते हैं. कि किस प्रकार से नारको टेस्ट किया जाता है.

Narco Test नारको टेस्ट

NARCO Test क्यों किया जाता है

नारको टेस्ट अपराधी से सच उगलबाने के लिए किया जाता है| जैसे अभी आपने देखा की हाथरस की मनीषा के साथ कैसे दरिंदगी की गयी है| उसका रेप करके फिर उसकी कमर को तोडा गया| फिर उसकी जीभ को काटा गया| फिर उसे तडपा-तडपा कर उसको अदमरा कर दिया| जिसकी वजह से उसकी मौत 29/SEP/2020 को हो गयी इसी के चलते लोग इसमे भी नारको टेस्ट की बात कर रहे हैं| जिससे दोषियो से सच उगल्बाया जा सके|

Narco Test नारको टेस्ट

NARCO Test से जुड़े कानून

भारत में किसी का Narco test कराने से पहले न्यायालय का आदेश लेना जरुरी है| न्यायालय का आदेश लेने के बाद फिर जिस भी अपराधी पर नारको टेस्ट करना है| उस व्यक्ति की स्वतंत्र सहमती आवश्यक है| यदि व्यक्ति या अपराधी की सहमती के बिना नारको टेस्ट किया जाता है तो वह संबिधान के अनुछेद 20 (3) अपराधो के लिए दोषसिद्धि से सम्बन्ध में संरक्षण का उलंघन होगा. अनुछेद 20 (3) के तहत किसी भी अपराध के लिए अपराधी/अभियुक्त को स्वयं अपने विरुद्ध साक्षी होने के लिए बाध्य नही किया जायेगा.

NARCO Test किन पर किया जाता है

NARCO Test गंभीर प्रकृति के अपराध करने वाले लोगो पर किया जाता है| जोकि बहुत चालाकी से अपराध को अंजाम देते हैं और अपराध में इस्तेमाल किये जाने बाले हथियारों और साक्ष्यो को मिटा देते हैं| इसके तहत बो पकड़े भी जातें हैं तो वह अपने अपराध को कुबूल नही करते हैं व् घटना से जुड़े सवाल भी उनसे किये जाते हैं तो वह तोड़ मरोड़ कर या सही से उनका जबाब भी नही देते हैं|

यह कहना सही नही होगा की Narco test किन व्यक्तिओ पर किया जाता है. यह टेस्ट हर बड़े केश में हो सकता है. जहा कातिल का पता लगाना थोडा मुस्किल हो.

/अधिकतर यह मृत्यु करने बाले अपराधी पर / आतंकबादी से सच उगाल्बने के लिए / बलात्कार के आरोपी आदि पर किया जाता है.

हमारी website के Notification को Enable जरुर कर लें ताकि आपको हर जानकारी सबसे पहले मिल सके | अगर आप अपनी ज्ञान की सीमा को और बढ़ाना चाहते हैं, तो आप हमारे फेसबुक पेज पर विजिट कर सकते हैं।