साइंटिस्ट भी हैरान इस बैक्टीरिया को देखकर जो 3 सालो से अंतिरिक्ष में जिन्दा है। Panspermia theory देगी जवाब

1776

Panspermia theory : जापान के कुछ रिसर्चरों ने एक खास किस्म के बैक्टीरिया को इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन के बाहर छोड़ दिया था, वह देखना चाहते थे, कि क्या यह बैक्ट्रिया स्पेस में सरवाइव कर सकता है, और जो कुछ सामने आया उन से सभी चौक गए, क्योंकि वह बैक्टीरिया 3 सालो के बाद भी अंतरिक्ष में जिंदा था। यानी इस एक्सपेरिमेंट से Panspermia को और panspermia Theory को काफी ज्यादा जोर मिलता है।

Panspermia theory

Panspermia theory

Panspermia theory के अनुसार जीवन पृथ्वी पर शुरू नहीं हुआ बल्कि कहीं और दूरदराज के प्लेनेट पर शुरू हुआ और वहां से किसी उल्का-पिंड के द्वारा धरती पर पहुंचा और धरती पर फिर जीवन आगे पनपना शुरू हुआ। कुछ लोग इस थ्योरी को मानते हैं, तो कुछ लोग इस थ्योरी का विरोध करते हैं, उनके अनुसार जीवन धरती पर ही पनपा है। देखा जाए तो जीवन धरती पर होना कोई ज्यादा खास बात भी नहीं है, क्योंकि अगर कोई ऐसा प्लेनेट होगा जिस पर वातावरण धरती से भी अच्छा हो, या फिर धरती जितना अच्छा हो तो, वहां पर भी जीवन पनप सकता है, और मनुष्य जैसे एडवांस सिविलाइजेशन बनने में उस प्लेनेट पर में कम से कम 3,00,000 साल लग सकते हैं। यानी कि हमारे यूनिवर्स में एडवांस सिविलाइजेशन होना ज्यादा भी मुश्किल नहीं है क्योंकि हमारे ब्रह्मांड में खरबों से सितारे हैं, और उनके प्लैनेट्स भी है, यानी ब्रह्मांड में कई और जीवन होना आसान है।

बैक्टीरिया जिन्दा कैसे रहते है? Panspermia Theory के अनुसार

Panspermia theory

सभी जीवित चीजों की तरह, बैक्टीरिया को रहने और बढ़ने के लिए खाने, पानी, और एक अच्छा एनवायर्मेंट की आवश्यकता होती है। पोषक तत्वों, पानी, टेम्परेचर, हवा, और moisture को कण्ट्रोल करके, आप बैक्टीरिया के बढ़ने की संख्या को, नियंत्रित या कम कर सकते हैं।

लेकिन बैक्टीरिया कठिन से कठिन हालात में भी जिन्दा रह सकते है, और कुछ बैक्टीरिया बिना ऑक्सीजन के भी जिन्दा रह सकते है, anaerobic बैक्टीरिया।

यह था पूरा आर्टिकल की कैसे बैक्टीरिया स्पेस में भी जिन्दा बच गया है, और साथ ही साथ हमने Penspermia Theory के बारे में जाना और इसके बारे में जाना की बैक्टीरिया कैसे जिन्दा रहते है। अगर आपका कोई और सवाल हो, तो हमें कमैंट्स में जरूर बताये, आपको उसका जवाब कमेंट में ही मिल जाएगा। हम उम्मीद करते है, कि आपको आर्टिकल पसन्द आया होगा। अगर हाँ, तो आप इसको शेयर और कमेंट करे जिससे हमको ऐसे ही आर्टिकल लिखने का प्रोतसाहन मिले।

और अगर आप ऐसे ही कमाल के आर्टिकल और पढ़ना चाहते है, तो नोटिफिशन ऑन करे और जैसे हमारी वेबसाइट पर कोई नया आर्टिकल आएगा आपको उसका नोटिफिशन मिल जाएगा।